स्कोलल

गढ़वाली कवितायें एवं गीत :- महेन्द्र सिंह राणा 'आजाद'

What is website hosting

मंगलवार, 4 दिसंबर 2012

'हे गेल्या मेरी गैल्याणी' ! (गढ़वाली गजल)


"हे गेल्या मेरी गैल्याणी, गेल रे म्यारा सदानी
गेल तेरा रे के तीस बूझी जाँदी म्येरी पराणी॥१॥

त्येरी छूयों माँ बगत बिसरी जांदु
छुवी त्येरी अर तिसेंदी पराणी॥२॥

त्येरु छैल-छबलाट म्येरी झिकुड़ी कु कबलाट
कुमलाई झिकुड़ी त्येरी पर तिसी रे पराणी॥३॥

फड़फड़ान्दु मि यख फड़फड़ान्दी तू तख
कब तीस बुझेली इनु द्वी पराणी॥४॥

दग्डु त्यारू-म्यारु उम्र भर कु
छट न छोड्या कभी न होई बिराणी॥५॥"

महेन्द्र सिँह राणा 'आजाद'
©सर्वाधिकार सुरक्षित
दिनाँक- ०५/०८/२०१२