स्कोलल

गढ़वाली कवितायें एवं गीत :- महेन्द्र सिंह राणा 'आजाद'

What is website hosting

रविवार, 15 जनवरी 2012

मेरो गौं मुलुक


पैलि कति बड़िया ची मेरो गौं मुलुक
अब कतक्या बदलीगे यख का यूँ लोग,
पैलि सब आपस मा स्यों-सिमेन लगूँ छि
अब यख हैलो-हाय, गुड़-बाय बोल्दा छि,
पैलि नांगा खुट्योन क्ख-क्ख दौड़या चि
अब भैर-भितर जाण तै हिल वाड़ा बूट चि,
पैलि सब बुड्या बैठी के तम्बाकू घुड़-घुड़ करदा छिन
अब ज्वान नौन्याड़ गुटका-सिगरेट खाण्या छिन,
पैलि ब्याखुनी सब बैठी के औण्ण-कथा बरात लगूँ छिन
अब यख आपस मे क्वे प्यार से बोल्दा भी नी छिन,
आजाद की आंख्यों मा आज पाणी ऐ गे
क्वी द मेरो मुलुक मीते वापस लोटे दे।


महेन्द्र सिँह राणा 'आजाद'
 © सर्वाधिकार सुरक्षित
दिनाँक - ०७/०६/२००६